It follows its unique ayurvedic principles for preventing, diagnosing, treating and curing diseases. From Birth – Adults (Burning urination) : 1 tablet 2 x a day until symptoms disappear.

Available as a tablet and syrup. Know composition, uses, benefits, symptoms, causes, substitutes, side effects, best foods and other precautions to be taken with Cystone Tablet 60`s along with ratings and in depth reviews from users. Bergenia ligulata/cilata) 98 mg, Indian madder/ Manjishtha (Rubia cordifolia) 32 mg, Umbrella's edge/ Nagarmusta (Cyperus scariosus) 32 mg, Prickly chaff flower/ Apamarga (Achyranthes aspera) 32 mg, Sedge/ Gojiha (Onosma …

Cystone tablets size, dimensions, color Himalaya Cystone Tablets are approximately 11mm in diameter and 2mm in thickness, yellow in color. सिस्टोन टबलेट के फायदे ,उपयोग एवं नुकसान (benefits,uses and side effects of himalaya cystone tablet) Editorial Team January 20, 2018 Share Tweet Share Share Reddit Himalaya Ashvagandha is a pure herb extract. Find Ayurvedic Medicine List.

Ayurvedic Medicine is an oldest medical system in the world. Himalaya Herbals - Cystone Promotes a Healthy Urinary Tract 60 Tablets Cystone is an ayurvedic formulation of herbs and minerals. May be increased to 2 tablets three times daily, if required. Precautions: Adequate water for hydration is recommended. Its methods are effective and provide good results. Ashvagandha / Ashwagandha is a famous ayurvedic rejuvenative herb. The duration of treatment varied from 2 weeks to 2 years (Table 2) and in most of the studies, except in pediatric patients, Cystone was used in the dose of 2 tablets thrice daily. I am used its some products like liv52, spemen, cystone, gasex etc. Cystone Tablet 60`s - Buy online at best prices with free delivery all over India. Often called the "Indian Ginseng", Ashvagandha improves the body's ability to maintain physical effort and helps the body relieve stress, fatigue and sleeplessness. आजकल की जीवनशैली ऐसी है की लोग विभीन्न तरह की बीमारियों से पीड़ित है और दवा लेते लेते थक चुके है। My Health Suraksha के माध्यम से आप अच्छे से अच्छा घरेलू उपचार और चिकित्सा कर सकते है। हम Doctors and Experts की टीम है,जिसमे चिकित्सा विशेषज्ञ के द्वारा यह जानकारी दी गयी है की हम एक अच्छी और स्वस्थ जीवन कैसे जी सकते हैं।सिस्टोन बहुत ही पुरानी एवं आयुर्वेदिक दवा है जो की जड़ीबूटियो और खनिजों का एक आयुर्वेदिक formula है। सिस्टोन से सामान्य मूत्र संरचना और श्र्लेष्मिक अखंडता को बनाए रखने में मदद करता है। सिस्टोन स्वाभाविक रूप से एक स्वस्थ मूत्र मार्ग को बढ़ावा देता है। ये हिमालया ड्रग कंपनी द्वारा निर्मित है। पत्थरी के ईलाज के लिए इसका इस्तेमाल न सिर्फ आयुर्वेदिक डॉक्टर करते हैं बल्कि ऐलोपथिक डॉक्टर लोग भी इसका इस्तेमाल करते हैं। इसके इस्तेमाल से किडनी और मूत्राशय की पत्थरी घुल कर निकल जाती है और दुबारा पत्थरी होने से रोकती है।सिस्टोन की टेबलेट और सिरप हर जगह आसानी से मिल जाता है। जड़ी बूटी और खनिज के मिश्रण से बनी यह दवा बहुत ही असरदार है।आहार अनुपूरक के रूप में सिस्टोन गुर्दे और मूत्र मार्ग के सामान्य कार्यो में मदद करता है।पाषणभेद, शिलापुष्प, मंजीठ, नागरमोथा, अपामार्ग, गोजिव्हा, सहदेवी, शिलाजीत और हजरूल यहूद भस्म इत्यादि इसके मुख्य घटक हैं।१) गोजिह्वा ३२mg – गुर्दे की पथरी की रोकथाम के लिए ।१) यह एक मूत्रल औषधि है जिस से पेशाब ज़्यादा आने लगता है । इसके इस्तेमाल से पत्थरी घूल कर निकल जाती है और नयी पत्थरी बनने से रोकता है।२) पेशाब की जलन या Burning Sensation  और इन्फेक्शन को दूर करता है३) पेशाब में क्रिस्टल आने की समस्या को दूर करता है।४) किडनी, मूत्राशय और पेशाब के रास्ते की इन्फेक्शन को दूर करता है।५) एंटी inflamatory गुणों की वजह मूत्र संसथान की सुजन और दूसरी सुजन को भी कम करता है।१) गुर्दे की पथरी(kidney stone) के उपचार और रोकथाम के लिए।५) पुराने मूत्र मार्ग में संक्रमण chronic urinary tract infectionकोई भी चीज अगर आप सही मात्र में लेते है डॉक्टर की सलाह के अनुसार लेते है तो कोई sideeffects नहीं होता । अगर वही आप इसे सही मात्र में न ले या ज्यादा ले तो नुकसान तो करेगा ही।और अगर आपको इन सब में से कोई भी रोग है तो पहले अपने डॉक्टर से consult करे फिर ही ले क्यूकी अगर आप पहले से कोई दवा ले रहे है तो इसकी आपकी dosage ज्यादा हो जाएगी जो हमारे शरीर के लिए नुकसान दायक है। और साथ ही जिगर और दिल की बीमारी से ग्रस्त है तो न ले।2 से 3 टेबलेट दो से तिन बार, ये व्यस्क व्यक्ति की मात्रा है।  बच्चों को 1 टेबलेट  2 से 3 बार दे सकते हैं।Koye yadi side effect hota hai to please kon sa bimar hogaइन बयानों का मूल्यांकन खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा नहीं किया गया है। स्थिति गंभीर होने पर कृपया चिकित्सक से परामर्श लें।खाद्य एवं औषधि प्रशासन ,इंडियन मेडिकल एसोसिएशन या किसी अन्य चिकित्सासंस्थान द्वारा  सभी जानकारी का मूल्यांकन नहीं किया गया है। हमारे विशेषज्ञ किसी भी बीमारी का निदान, उपचार, इलाज या रोकथाम नहीं करते हैं। सभी जानकारी केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए साझा की जाती है। इस वेबसाइट पर दी गई किसी भी जानकारी पर कार्रवाई करने से पहले कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें। खासकर यदि आप गर्भवती हैं, नर्सिंग कर रही हैं, दवा ले रही हैं, या कोई मेडिकल स्थिति है, तो हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करें
Take 2 tablets twice daily with meals. The use of natural products provides progressive but long-lasting results. For specific questions, please consult a specialist for the advice.Blooming Your Lifestyle is a subsidiary of Divinati Services and aims to provide awareness and well being tips to have a healthy lifestyle.Himalaya Cystone | Ingredients | Health Benefits | Side Effects | Dosage

If someone is suffering from recurring stone formation then he/she should try this medicine. With good results so I strongly recomedded to use himalaya products to everyone. Cystone is available as tablets and syrup. Maintenance Therapy : 1 table 2 x a day for 6 months. Side effects: Cystone is not known to have any side effects if taken as per the prescribed dosage. Cystone naturally promotes a healthy urinary tract and helps maintain normal urine composition and mucosal integrity. It is also used to treat the condition of hives.Mondeslor Tablet belongs to a class of medications known as antihistamines. Himalaya Cystone is an Ayurveda medicine which is used for several health problems such as Himalaya Cystone contains several herbal ingredients which have numerous health benefits. We have specified some of the commonly reported side effects underneath:Other reported precautions and side effects have been specified underneath:**It is recommended to discontinue the usage immediately if you observe any of the above-mentioned symptoms.Himalaya Cystone dosage depends upon several factors such as weight, height, age, and severity of the problem however, we have specified the general dosage of tablet and syrup underneath:Note: Maximum allowed dosage is 6 tablets and 6 Tsp in a day.To buy Himalaya Cystone click on the link mentioned below:Disclaimer: Nothing in this article is to be construed as medical advice, nor it is intended to replace the recommendations of a medical professional. Few studies done on Cystone suggest, it is an effective herbal medicine for management of renal calculi.
Allow several weeks for benefits. Each tablet of Cystone contains: Shilapushpha (Didymocarpus pedicellata) 130 mg, Pasanabheda (Saxifraga ligulata Syn. Participants will take 2 pills, 2 times a day. Ayurvedic medicine benefits in preventive as well as curative medicine. We have specified the general ingredients of Cystone underneath:**Above mentioned ingredient may vary from the actual product.Himalaya Cystone has numerous health benefits as reported in various studies however, we have specified some of the best-reported health benefits underneath:Himalaya Cystone is safe and well tolerated by the individuals however, overdosage or intolerance to any of the key ingredient can lead to a severe health problem.

30 yrs old Male asked about Dose of Cystone tab, 1 doctor answered this and 10585 people found it useful. It contains the natural properties of anti-inflammatory, anti-bacterial, antilithiatic, and analgesic compounds.